AAPKA MERE IS BLOG MEIN SWAGAT HAIN

MERI KAVITAON KA LUTHF UTHAYEIN

Wednesday, February 23, 2011

आरती श्री गूगल महाराज.............


ॐ जय गूगल हरे !!
स्वामी जय गूगल हरे !!
प्रोग्रामर्स के संकट, नेट यूजर्स के संकट !!
एक क्लिक मे दूर करे !!
ॐ जय गूगल हरे !!

जी-मेल की सुविधा !!
सब जमकर मेल करे, स्वामी मिल कर मेल करे !!
सोशल नेटवर्किंग ऑरकुट, लेखको के लिए ब्लॉगर !!
सब जन चैट करे !!
ॐ जय गूगल हरे !!

तुम देवा सर्च इंजिन !!
तुम इन्टरनेट राजा, स्वामी इन्टरनेट राजा !!
तुम होमेवोर्क कराओ, प्रोजेक्ट पूरे कराओ !!
कस्ट हरो वर्क का !!
ॐ जय गूगल हरे !!

तुम नोलेज के सागर !!
तुम पालनकर्ता, स्वामी तुम पालनकर्ता !!
मैं तो सर्चर खल्कामी, तुम हो सर्वर स्वामी !!
सब मेटर सर्च करता !!
ॐ जय गूगल हरे !!

वेब सर्च, इमेज सर्च !!
न्यूज़ भी सर्च करे, स्वामी ब्लॉग भी सर्च करे !!
अपने सर्च दिखाओ, सारी री-सर्च दिखाओ !!
साईट पे खड़ा खड़ा में तेरे !!
ॐ जय गूगल हरे !!

गूगल क्रोम ब्राऊजर !!
नेट स्पीड को तेज करे, स्वमी नेट स्पीड दोढाये !!
गूगल अर्थ घर बैठे, गूगल मैप घर बैठे !!
सारी दुनिया घुमवाए !!
ॐ जय गूगल हरे !!

गूगल देव जी की आरती !!
जो कोई भी गावे, जो नेट यूजर गावे !!
कहत "मारवाड़ी" कविवर , कहत "अमन" नेट यूजर !!
सरे वाइरस सिस्टम से पल में दूर भगे !!
ॐ जय गूगल हरे !!

- अमन अग्रवाल "मारवाड़ी"

4 comments:

  1. बहुत बढ़िया अमन भाईजी...

    -------

    मेरे ब्लॉग पर सफ़ेद पेड़......

    ReplyDelete
  2. अमन जी! काफी दिनों बाद आपके ब्लाग पर आना हुआ। देवनागरी लिपि में लिखी गूगल की आरती अति सुन्दर एवं सराहनीय है।
    आपको बधाई।
    =======================
    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete